Hast Rekha Gyan in Hindi | जिन लोगों की हथेली में हों ये रेखा दोष, उनसे बचके रहें

Hast Rekha Gyan in Hindi – जिस तरह किसी भी व्यक्ति की Kundli देख कर उसका भूत, वर्तमान और भविष्य जान सकते है उसी तरह हमारे Hast Rekha (हाथ की रेखाओं) में भी और भविष्य छिपा हुआ है।

हर किसी के हाथ की रेखाएं अलग अलग होती है कभी भी किसी भी इंसान की हाथ की रेखाएं एक सामान नहीं होती है चाहे वो सगे भाई बहिन ही क्यों न हो।

Hast rekha gyan in hindi
Hast rekha gyan in hindi

जिस इंसान के भाग्य में जैसा होता है उसी के अनुसार उसके हाथ की रेखाएं बदलती रहती है भविष्य जानने का ये सबसे अच्छा तरीका माना जाता है।

काफी बार लोग ये भी बोलते है कि जिनके हाथ नहीं होते उनकी भी किस्मत होती है बिलकुल होती है।

हाथ की लकीर भविष्य जानने का माध्यम है ना की किसी का भविष्य है।

अब ऐसे महान लोगो को कौन समझाये जो हर बात में ही कुतर्क देखने की कोशिश करते है।

हस्तरेखा ज्ञान से किसी भी जातक के हाथ में बनी हुई रेखाओं से उसके भविष्य के बारे में जाना जा सकता है।

सभी व्यक्तियों की हाथ की रेखाओं की बनावट एक जैसी नहीं होती है।

जैसे किसी व्यक्ति की हाथ में रेखाएं सीथी होती हैं तो किसी के हाथ की रेखाएं टेढ़ी-मेढ़ी होती हैं।

किसी के हाथों में उभार ज्यादा होता है तो किसी के कम। ये सारे संकेत उसके व्यक्तित्व एवं भाग्य की ओर संकेत करते हैं।

आज हम व्यक्ति के हाथों में रेखाओं से बनने वाले चार प्रकार के दोषों के बारे में जानेंगे, जो इस प्रकार हैं-

जीवनरेखा का दोष – Hast Rekha Gyan in Hindi

यदि किसी व्यक्ति की हथेली में बनने वाली जीवन रेखा सीधी होती है तो यह संकेत उस व्यक्ति के लिए शुभ नहीं होता है।

ऐसे जातक विश्वासयोग्य नहीं होते हैं। ऐसे व्यक्ति के साथ सीक्रेट्स शेयर करना ठीक नहीं होता है।

ऐसा इंसान कभी ना कभी आपको धोखा दे जायेगा अगर इस तरह की रेखाओ वाले जातक के साथ कोई व्यापार कर रहे है या शादी करने वाले है।

Read Also – Sapno ka Arth यदि सपने में दिखाई दे मृत परिजन तो जाने इसका अर्थ

तो आपको बहुत सोच समझ कर फैसला करने की जरुरत है क्युकी ये लोग विश्वाश योग नहीं होते है।

भाग्य रेखा का दोष

हथेली में बनने वाली भाग्यरेखा का सामान्य से मोटा होना भी एक दोष है।

अगर किसी व्यक्ति की भाग्यरेखा शुरू से अंत तक मोटी हो तो यह भी एक दोष माना जाता है।

इस दोष के होने पर व्यक्ति के अंदर लालच अधिक रहता है।

अगर किसी इंसान की भाग्य रेखा शुरू से अंत तक बिना एक दम साफ़ है।

और दूसरी और रेखाएं भाग्य रेखा को नहीं काट रही है।

तो ऐसा व्यक्ति बहुत जल्दी सरकारी रोजगार पा लेता है।

यदि अंत में भाग्य रेखा मिडिल फिंगर यानि शनि पर्वत से ऊपर ऊँगली तक पहुंच जाती है।

तो व्यक्ति कितनी भी मेहनत कर लें सफलता से कोसो दूर रहता है।

Read Also – Bhoot Pret se Mukti ke Upay | Ghar se Bhoot Pret Bhagane ke Upay

शुक्र क्षेत्र का दोष – Hast Rekha Gyan in Hindi

अगर किसी व्यक्ति का शुक्र पर्वत अधिक उठा हुआ होता है। यह स्थिति शुक्र क्षेत्र का दोष कहलाती है।

ऐसे व्यक्ति चरित्र से ढीले होते हैं। तीव्र कामुक भावना के चलते कई बार ये सीमाओं को लांघ जाते हैं

और शुक्र पर्वत का सामान्य से नीचे रहना भी व्यक्ति से लिए ठीक नहीं रहता है।

ऐसा व्यत्कि अपनी सेक्स लाइफ को अच्छी तरह नहीं जी पाता है।

कोई गुप्त रोग होने की सम्भावना होती है।

Read Also – Vastu Tips For Mirror in Hindi | Vastu Shastra For Mirror Tips

मस्तिष्क रेखा का दोष

हस्तरेखा ज्ञान कहता है कि अगर किसी व्यक्ति की मस्तिष्क रेखा साफ हो तो यह स्थिति उसके लिए मस्तिष्क रेखा दोष को पैदा करती है।

इसके कारण व्यक्ति शातिर व धोखेबाज हो जाता है अगर मस्तिष्क रेखा और जीवन रेखा दूर दूर होती है।

तो ऐसे व्यक्ति की अपने पिता से नहीं बनती है या फिर ये लोग परिवार से अलगाव कर लेते है।

अगर मस्तिष्क रेखा और जीवन रेखा शुरू में एक दूसरे से सटी हुई होती है।

तो ऐसा व्यक्ति पिता का आज्ञाकारी होता है

और अपने परिवार के लिए किसी भी हद तक जाने का साहस रखता है। 

अगर हस्त रेखा के बारे में आपका कोई सवाल है तो नीचे कमेंट बॉक्स में जरूर बताये

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *